सुमर ले राम को तजके तू मान भजन लिरिक्स

0
470
बार देखा गया
सुमर ले राम को तजके तू मान भजन लिरिक्स

सुमर ले राम को तजके तू मान
सदा ना रहेगा तेरा तन ऽऽऽ ॥
सुमर ले …
(तर्ज :- नजर के सामने जिगर के )

सुमर ले राम को तजके तू मान
सदा ना रहेगा तेरा तन ऽऽऽ ॥
सुमर ले …

साथ मेँ क्या लाया तू जब था आया जग मेँ।
जोड़ जोड़ के रख दिया पागल हुआ धन मेँ।
मोह माया मेँ डूबके ऽऽऽ –2
नाम प्रभु का जपा नहीं ॥१॥
सुमर ले रामको …

जिस दिन काठ की घोड़ी पे चढ़के तू जायेगा।
सब भाई बन्धु तेरे कोई काम न आयेगा।
सोने जैसी काया तेरी ऽऽऽ –2
देँगे पल मेँ खाक बना ॥२॥
सुमर ले राम को …

तिजोरी भर ले राम नाम की काम तेरे जो आये।
प्रभु की कृपा से तो पापी नर भी तर जाये।
गफलत की नीँद मेँ ऽऽऽ –2
‘खेदड़’ तुम सोना नहीँ ॥३॥
सुमर ले रामको …”by pkhedar”

सुमर लेराम को तजके तू मान
सदा ना रहेगा तेरा तन ऽऽऽ ॥
सुमर ले …

 

कोई जवाब दें

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम