तू ही आधार मेरा दिल से कहता हूं एक शाम है प्यार मेरा

0
707
बार देखा गया
तू ही आधार मेरा दिल से कहता हूं एक शाम है प्यार मेरा

तू ही आधार मेरा,
तू ही आधार मेरा,
दिल से कहता हूं,
एक शाम है प्यार मेरा।।

तर्ज – ये मर्जी है।



दर तेरे जो आते हैं,

दर तेरे जो आते हैं,
खाली नहीं जाते,
ऐसा दरबार तेरा।।



जहां प्रेम प्यार दिल में,

जहां प्रेम प्यार दिल में,
तू वही रहता है,
एक यही है सार तेरा।।



क्या मुझको भी होगा कभी,

क्या मुझको भी होगा कभी,
इतनी सी कर दे कृपा,
मुझे दे दीदार तेरा।।



एक विनती मेरी तुझसे,

एक विनती मेरी तुझसे,
आ इस महफिल में,
कहे ‘शिवकुमार’ तेरा।।



ऐसा वर दे मुझको,

ऐसा वर दे मुझको,
गाता रहे ‘समीर’,
हरदम गुणगान तेरा।।



तू ही आधार मेरा,

तु ही आधार मेरा,
दिल से कहता हूं,
एक शाम है प्यार मेरा।।

Singer – Sameer Bansal


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम