तूने मारे चण्ड मुण्ड शुम्भ निशुम्भ तेरी जय जय मात भवानी

0
1933
बार देखा गया
तूने मारे चण्ड मुण्ड शुम्भ निशुम्भ तेरी जय जय मात भवानी

तूने मारे चण्ड मुण्ड,
शुम्भ निशुम्भ,
तेरी जय जय मात भवानी,
तेरी जय जय जय कल्याणी।।

तर्ज – जहाँ डाल डाल पर।



तूने मारे चण्ड मुण्ड,

शुम्भ निशुम्भ,
तेरी जय जय मात भवानी,
तेरी जय जय जय कल्याणी,
तेरी जय जय मैया रानी,
हे जगजननी जगदम्बे ज्वाला,
दुर्गा वैष्णो रानी,
तेरी जय जय जय कल्याणी,
तेरी जय जय मात भवानी।।

जय जय जय माता दी,
जय जय जय माता दी।



जब चण्ड मुण्ड शुम्भ निशुंभ ने,

सारे देवो पे किन्ही चढ़ाई,
तूने असुरो का संहार किया,
रणचंडी माई कहाई,
रणचंडी माई कहाई,
मै आन पड़ा तेरे द्वार पे,
अब है तुझको लाज बचानी,
तेरी जय जय मैया रानी,
तेरी जय जय मात भवानी।।



तू खडग त्रिशूल और खप्पर धारी,

सिंह तेरी असवारी,
तेरी महिमा है अति भारी मैया,
जग की पालन हारी,
जग की पालन हारी,
तूने महिषासुर को मार दिया,
जब मन में पक्की ठानी,
तेरी जय जय मैया रानी,
तेरी जय जय मात भवानी।।



तेरे द्वार पे मृदंग ढोल बजे,

भक्तो ने धूम मचाई,
तेरे भवन में नौवत बाजे मैया,
गूंजे शंख शहनाई,
हे जोतावाली तेरे भवन की,
रुत है बड़ी सुहानी,
तेरी जय जय मैया रानी,
तेरी जय जय मात भवानी।।



हे आदिशक्ति माँ दुर्गे तूने,

सारी श्रष्टि रचाई,
तू जगदम्बे जगजननी,
दानव दैत्य ऋषि उपजाई,
हे लाटावाली लगती हमको,
तेरी गुफा सुहानी,
तेरी जय जय मैया रानी,
तेरी जय जय मात भवानी।।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम